Saturday, June 13, 2009

हद से गुजरा...

हदसे गुज़रा , जोभी दर्द मिला,
कि अब कोई दर्द हमारा न रहा...
क़तरा,क़तरा पिघलता रहा,
वो यादोंकी रहगुज़र से गुज़रा,
न दिल, ना जिस्म अपना रहा...
हदसे गुज़रा, जब भी गुज़रा...

8 comments:

AlbelaKhatri.com said...

dard gar had se guzar jaaye toh kuchh aaraam ho
zindgi ab bhi sanvar jaaye toh kuchh aaraam ho
anjuman me yon toh laakhon paiqre-ehabaab hain
aks uska bhi ubhar jaaye toh kuchh aaraam ho
________________dard par aapki kavita umda lagi
________________BADHAAI !____________

डॉ. मनोज मिश्र said...

बहुत बेहतरीन लाइनें .

SWAPN said...

हदसे गुज़रा , जोभी दर्द मिला,
कि अब कोई दर्द हमारा न रहा...

bahut khoob.

ktheLeo said...

’बेहतरीन ख्याल है,खूबसूरत लफ़्ज़.’

Respected शमा जी,

आप की दाद के लिये मेरी रचनायें मुन्तज़िर हैं.
या तो उन में अब वो ताव नहीं,या आपने अपना नज़रिया बदल दिया है.

Shama said...

Leo ji,
Kshama chahti hun..!
Aaj kal maa aayee huee hain, jo cancer patient hain...unhen aapki rachnayen lagataar padhke sunatee rahee..aapke blogpe comment( abhi bhee) dena chaaha to, comment box khula nahee..!Aur, maa ka kehna hua,( mujhse mukhatib ho) gar aisa likh sake to likh..!Wo behtareen urdu daan hain..!

Khair..aap bilkul aisa na soche..! Balki, apnehee blogpe likhna aise lag raha tha, mano" andha baate sheernee, mud, mud apnon ko de.."!

Nazariya,to mera, meree rachnaon ke prati badal raha hai, lagta hai,ki, maine kavy rachnake badle gady pe adhik dhyan dena chahiye..!

Shayad aapne gaur kiya hoga ki, maine bade dinon ke baad aaj kuchh likha "kavita" blog pe..Warna mai purani rachnayen dobara post kar rahee thee..!
Comp bhee usee kamreme rehta hai, jo maa ka kamra hai...bas aiseehee kuchh majboriyan theen...phirbhi,tahe dilse, is khata kee maafee chahtee hun! Bas isbaar maaf kar den !

ktheLeo said...

शमा जी,
अव्वल तो मां की सेहत के लिये उस सर्वशक्तिमान से एक बात कि,

"मौला न कर मेरी हर मुराद तू पूरी,
जहां से दर्द की मिकदार कम हो ये करना होगा.

मसीहा कौन यहां और कौन यहां रहबर है,
हर इन्सान को अकेले ही इस राह पे चलना होगा."

उनके जल्द सेहतमन्द होने के लिये ढेरों दुआयें.

मेरी रचनाओं को जो उन्होने अपने आशीस से नवाज़ा उसके लिये शुक्रिया.

मेरे Blogg पर Comment box अलग से ’Pop up'window में खुल रहा था,अब बदल दिया है,जब समय मिलें तो विचार व्यक्त करें.
आदर सहित,
Ktheleo.

vandana said...

dard hota hi aisa hai ........jab bhi gujarta hai had se hi gujarta hai........bahut hi bhavuk rachna

ओम आर्य said...

दिल से यही बात निकली है.....इस छोटेसे कविता ने जितना कुछ कहा है ..............लगता है दर्द ने दर्द से बात कर ली.