Monday, December 28, 2009

वो राह,वो सहेली...

वो राह,वो सहेली...
पीछे छूट चली,
वो राह वो सहेली,
गुफ्तगू, वो ठिठोली,
पीछे छूट चली...

ना जाने कब मिली,
रात इक लम्बी अंधेरी,
रिश्तों की भीड़ उमड़ी,
पीछे छूट चली...

धुआँ पहेन चली गयी,
'शमा' एक जली हुई,
होके बेहद अकेली,
पीछे छूट चली...

ये कारवाँ उसका नही,
कोई उसका अपना नही,
अनजान बस्ती,बूटा पत्ती,
बिछड़ गयी कबकी,
वो राह,वो सहेली...

14 comments:

ज्योति सिंह said...

धुआँ पहेन चली गयी,
'शमा' एक जली हुई,
होके बेहद अकेली,
पीछे छूट चली...

ये कारवाँ उसका नही,
कोई उसका अपना नही,
अनजान बस्ती,बूटा पत्ती,
बिछड़ गयी कबकी,
वो राह,वो सहेली...
bahut hi khoobsurat rachna ,jo kai kadam peechhe khich le gayi ,doston ke sang bitaye palo par likhi meri rachna yaad aa gayi ,ise padhte huye ,

वाणी गीत said...

वो राह वो सहेली ...पीछे छूट चली ...
अंजन बस्ती बूटा पट्टी ...बिछड़ गयी कबकी ....
इतना अकेलापन तन्हाई है कविता में कि मन उदास होने लगा है ...
ब्लॉग के विस्तृत आसमान में इस तन्हाई की कहाँ कोई जरुरत है ...!!

मनोज कुमार said...

अच्छी लगी रचना। बहुत-बहुत धन्यवाद
आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

Devendra said...

सीधी... सरल... सरस... सुंदर... अभिव्यक्ति पढ़कर मन हर्षित हुआ.

दिगम्बर नासवा said...

ना जाने कब मिली,
रात इक लम्बी अंधेरी,
रिश्तों की भीड़ उमड़ी,
पीछे छूट चली...

अच्छी रचना है ....... इक दिन तो सब कुछ पीछे छूट जाता है ..... अकेले ही चलना है .......
आपको नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ...........

रश्मि प्रभा... said...

जब लगता है मंजिलें,रास्तें खामोश हैं.....तो कुछ आहटें साथ होती हैं

ktheLeo said...

Great! Ye karwan uaska nahi......
Waah!

योगेश स्वप्न said...

rachna dilko bha gai.

'sammu' said...

सुन्दर मनोभाव !

आपके ' परिधान ' और ' धरोहर ' देखने को नहीं मिलते . ' आमंत्रितों ' के लिए हैं . क्या आमंत्रित हो सकते हैं ? हम भी ?

नैमित्य said...

sundar panktiyan !! khas pasand aayi antim panch panktiyan !

aapko nav warsh ki hardik shubhkamnaye !

नैमित्य said...

sundar panktiyan !! khas pasand aayi antim panch panktiyan !

aapko nav warsh ki hardik shubhkamnaye !

Aarjav said...

अच्छी लगी कविता !

psingh said...

इस सुन्दर रचना के लिए बहुत -बहुत आभार
नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

sada said...

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना लिये हुये बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये, बधाई के साथ नववर्ष की शुभकामनायें ।