Tuesday, November 24, 2009

जल उठी" शमा....!"

शामिले ज़िन्दगीके चरागों ने
पेशे खिदमत अँधेरा किया,
मैंने खुदको जला लिया!
रौशने राहोंके ख़ातिर ,
शाम ढलते बनके शमा!
मुझे तो उजाला न मिला,
सुना, चंद राह्गीरोंको
हौसला ज़रूर मिला....
अब सेहर होनेको है ,
ये शमा बुझनेको है,
जो रातमे जलते हैं,
वो कब सेहर देखते हैं?

5 comments:

योगेश स्वप्न said...

umda rachna.

Suman said...

nice

ktheLeo said...

जो रातमे जलते हैं,
वो कब सेहर देखते हैं?

वाह क्या खूबसूरत ख्याल और अंदाज़ है,वाह!

अगर कुछ कहूं तो बस इतना ही के,

’तमाम शहर रौशन हो ये नही होगा,
पर शमा जले ये उसकी मज़बूरी है.’

रश्मि प्रभा... said...

पर रात लौट कर आती है......
शमा की याद आती है

अभिषेक प्रसाद 'अवि' said...

sach hai ki raat mein jalne wala subah nahi dekhta par shama ki jaroorat har raat hoti hai.

dua rahegi aapki likhne ki jalan kabhi kam na ho...