Friday, July 3, 2009

दूर रेह्केभी ......

दूर रेह्केभी क्यों
इतने पास रहते हैं वो?
हम उनके कोई नही,
क्यों हमारे सबकुछ,
लगते रहेते हैं वो?
सर आँखोंपे चढाया,
अब क्यों अनजान,
हमसे बनतें हैं वो?

वो अदा थी या,
है ये अलग अंदाज़?
क्यों हमारी हर अदा,
नज़रंदाज़ करते हैं वो?
घर छोडा,शेहेर छोडा,
बेघर हुए, परदेस गए,
और क्या, क्या, करें,
वोही कहें,इतना क्यों,
पीछा करतें हैं वो?

खुली आँखोंसे नज़र
कभी आते नही वो!
मूंदतेही अपनी पलकें,
सामने आते हैं वो!
इस कदर क्यों सताते हैं वो?
कभी दिनमे ख्वाब दिखलाये,
अब क्योंकर कैसे,
नींदें भी हराम करते हैं वो?

जब हरेक शब हमारी ,
आँखोंमे गुज़रती हो,
वोही बताएँ हिकमत हमसे,
क्योंकर सपनों में आयेंगे वो?
सुना है, अपने ख्वाबों में,
हर शब मुस्कुरातें हैं वो,
कौन है,हमें बताओ तो,
उनके ख्वाबोंमे आती जो?
दूर रेह्केभी क्यों,
हरवक्त पास रहेते हैं वो?
शमा

13 comments:

M VERMA said...

वो अदा थी या,
है ये अलग अंदाज़?

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

Vijay Kumar Sappatti said...

shama ji ,,
aapke saare blogs mil gaye ji .. ab main folower bi hoon ..

apne is kavita me jo saundarya ghhola hai uske kya kahne ... waah


padhkar dil khush ho gaya ...

badhai

नीरज कुमार said...

कभी दिनमे ख्वाब दिखलाये,
अब क्योंकर कैसे,
नींदें भी हराम करते हैं वो?

What an idea, Madamji...

cartoonist anurag said...

bahut hi shandar rachna.....

kai jagah to padkar esa laga ki aapne meri
hi jindagi ki kitab kholkar rakh dee hai...

is shandar rachna k liye aapka abhinandan karta hu......

‘नज़र’ said...

kyaa kahein bahut khoob...

'sammu' said...

pahale bhee kaha tha . fir se ...

vo pas rahen ya door rahen nazaron me samaye rahate hain.
batalaye koyee hamko bhee to kuch kya .... isee ko kahate hain ?

Shama said...

Sammuji,
kuchh samajhi nahee...!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

खुली आँखों से नज़र
कभी आते नही वो!
मूंदते ही अपनी पलकें,
सामने आते हैं वो!

बेहतरीन शेर।
बधाई।

ktheLeo said...

TarIf ke pare!

awaz do humko said...

achcha likha hai.. ahsas ko bahut achche andaz mein bayan kiya aapne ....qabil-e-tareef hai...
kuch bhasha mein galtiyan rah gai hain convert problam hai...bahut achcha laga aapka blog pahli baar padha dil mein ghar kar gaya

AlbelaKhatri.com said...

atyant sundar abhivyakti !
waah
waah
anand aa gaya..........

Prem said...

har kavi kyon apna sa lagta hai sunder bhavon ke liye badhai --prem

ABHAY KUMAR said...

Amazing you are a great poet......all the best