Saturday, March 28, 2009

एक हिन्दुस्तानीकी ललकार, फिर एकबार !

Sunday, December 7, 2008

एक हिन्दुस्तानिकी ललकार, फिर एक बार !

कुछ अरसा पहले लिखी गई कवितायें, यहाँ पेश कर रही हूँ। एक ऑनलाइन चर्चामे भाग लेते हुए, जवाब के तौरपर ये लिख दी गयीं थीं। इनमे न कोई संपादन है न, न इन्हें पहले किसी कापी मे लिखा गया था...कापीमे लिखा, लेकिन पोस्ट कर देनेके बाद।

एक श्रृंखला के तौरपे सादर हुई थीं, जिस क्रम मे उत्तर दिए थे, उसी क्रम मे यहाँ इन्हें पेश कर रही हूँ। मुझे ये समयकी माँग, दरकार लग रही है।

१)किस नतीजेपे पोहोंचे?

बुतपरस्तीसे हमें गिला,
सजदेसे हमें शिकवा,
ज़िंदगीके चार दिन मिले,
वोभी तय करनेमे गुज़ारे !
आख़िर किस नतीजेपे पोहोंचे?
ज़िंदगीके चार दिन मिले...

फ़सादोंमे ना हिंदू मरे
ना मुसलमाँ ही मरे,
वो तो इंसान थे जो मरे!
उन्हें तो मौतने बचाया
वरना ज़िंदगी, ज़िंदगी है,
क्या हश्र कर रही है
हमारा,हम जो बच गए?
ज़िंदगीके चार दिन मिले...

देखती हमारीही आँखें,
ख़ुद हमाराही तमाशा,
बनती हैं खुदही तमाशाई
हमारेही सामने ....!
खुलती नही अपनी आँखें,
हैं ये जबकि बंद होनेपे!
ज़िंदगीके चार दिन मिले,
सिर्फ़ चार दिन मिले..!


२) खता किसने की?


खता किसने की?
इलज़ाम किसपे लगे?
सज़ा किसको मिली?
गडे मुर्दोंको गडाही छोडो,
लोगों, थोडा तो आगे बढो !
छोडो, शिकवोंको पीछे छोडो,
लोगों , आगे बढो, आगे बढो !

क्या मर गए सब इन्सां ?
बच गए सिर्फ़ हिंदू या मुसलमाँ ?
किसने हमें तकसीम किया?
किसने हमें गुमराह किया?
आओ, इसी वक़्त मिटाओ,
दूरियाँ और ना बढाओ !
चलो हाथ मिलाओ,
आगे बढो, लोगों , आगे बढो !

सब मिलके नयी दुनिया
फिर एकबार बसाओ !
प्यारा-सा हिन्दोस्ताँ
यारों दोबारा बनाओ !
सर मेरा हाज़िर हो ,
झेलने उट्ठे खंजरको,
वतन पे आँच क्यों हो?
बढो, लोगों आगे बढो!

हमारी अर्थीभी जब उठे,
कहनेवाले ये न कहें,
ये हिंदू बिदा ले रहा,
इधर देखो, इधर देखो
ना कहें मुसलमाँ
जा रहा, कोई इधर देखो,
ज़रा इधर देखो,
लोगों, आगे बढो, आगे बढो !

हरसूँ एकही आवाज़ हो
एकही आवाज़मे कहो,
एक इन्सां जा रहा, देखो,
गीता पढो, या न पढो,
कोई फ़र्क नही, फ़ातेहा भी ,
पढो, या ना पढो,
लोगों, आगे बढो,

वंदे मातरम की आवाज़को
इसतरहा बुलंद करो
के मुर्दाभी सुन सके,
मय्यत मे सुकूँ पा सके!
बेहराभी सुन सके,
तुम इस तरहाँ गाओ
आगे बढो, लोगों आगे बढो!

कोई रहे ना रहे,
पर ये गीत अमर रहे,
भारत सलामत रहे
भारती सलामत रहें,
मेरी साँसें लेलो,
पर दुआ करो,
मेरी दुआ क़ुबूल हो,
इसलिए दुआ करो !
तुम ऐसा कुछ करो,
लोगों आगे बढो, आगे बढो!!


३)एक ललकार माँ की !

उठाये तो सही,
मेरे घरकी तरफ़
अपनी बद नज़र कोई,
इन हाथोंमे गर
खनकते कंगन सजे,
तो ये तलवारसेभी,
तारीख़ गवाह है,
हर वक़्त वाकिफ़ रहे !

इशारा समझो इसे
या ऐलाने जंग सही,
सजा काजलभी मेरी,
इन आँखोमे , फिरभी,
याद रहे, अंगारेभी
ये जमके बरसातीं रहीं
जब, जब ज़रूरत पड़ी

आवाज़ खामोशीकी सुनायी,
तुम्हें देती जो नही,
तो फिर ललकार ही
सुनो, पर कान खोलके
इंसानियत के दुश्मनों
हदमे रहो अपनी !

चूड़ियाँ टूटी कभी,
पर मेरी कलाई नही,
सीता सावित्री हुई,
तो साथ चान्दबीबी,
झाँसीकी रानीभी बनी,
अबला मानते हो मुझे,
आती है लबपे हँसी!!
मुझसे बढ़के है सबला कोई?

लाजसे गर झुकी,
चंचल चितवन मेरी,
मत समझो मुझे,
नज़र आता नही !
मेरे आशियाँ मे रहे,
और छेद करे है,
कोई थालीमे मेरी ,
हरगिज़ बर्दाश्त नही!!

खानेमे नमक के बदले
मिला सकती हूँ विषभी!
कहना है तो कह लो,
तुम मुझे चंचल हिरनी,
भूल ना जाना, हूँ बन सकती,
दहाड़ने वाली शेरनीभी !

जिस आवाज़ने लोरी,
गा गा के सुनायी,
मैं हूँ वो माँ भी,
संतानको सताओ तो सही,
चीरके रख दूँगी,
लहुलुहान सीने कई !!
छुपके वार करते हो,
तुमसे बढ़के डरपोक
दुनियामे है दूसरा कोई?
21 टिप्पणियाँ:

श्यामल सुमन said...

सुन्दर भाव। किसी ने कहा है कि-

ये हमने माना कि जिन्दगी चार दिन की है।
मगर चार दिन की जिन्दगी भी कम नहीं होती।।

साथ ही-

ये माना कि हम चमन को गुलजार न कर सके।
कुछ खार तो कम हुए गुजरे जिधर से हम

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
www.manoramsuman.blogspot.com
December 7, 2008 7:07 AM
अखिल तिवारी said...

खता किसने की?
इलज़ाम किसपे लगे?
सज़ा किसको मिली?
गडे मुर्दोंको गडाही छोडो,
लोगों, थोडा तो आगे बढो !
छोडो, शिकवोंको पीछे छोडो,
लोगों , आगे बढो, आगे बढो !

अब इससे भी और अच्छा तरीका क्या हो सकता है आवाहन करने का....

आशा है लोग इसे केवल पढेंगे ही नही बल्कि कुछ आत्मसात भी करेंगे.. हम आपके साथ हैं...
December 7, 2008 7:08 AM
savita verma said...

रोचक
December 7, 2008 7:24 AM
विष्णु बैरागी said...

आगे बढना ही एकमात्र निदान है । सुन्‍दर भावनाएं । सुन्‍दर शब्‍दावली ।
December 7, 2008 9:05 AM
विनय said...

जागो भारत के सपूतों!
December 7, 2008 9:44 AM
परमजीत बाली said...

बढ़िया!!
December 7, 2008 9:51 AM
नीरज गोस्वामी said...

आप की ये बेहतरीन रचनाएँ किसी संपादन की मोहताज नहीं...वैसे जो दिल से लिखा जाए उसे संपादन करने की जरूरत ही महसूस नहीं होती...तीनो रचनाएँ अपने आप में पूरी हैं और कमाल की हैं...
नीरज
December 7, 2008 10:31 AM
राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर भाव
धन्यवाद
December 7, 2008 12:29 PM
NirjharNeer said...

उठाये तो सही,
मेरे घरकी तरफ़
अपनी बद नज़र कोई,
इन हाथोंमे गर
खनकते कंगन सजे,
तो ये तलवारसेभी,
तारीख़ गवाह है,
हर वक़्त वाकिफ़ रहे !

yakinan aaj vo vaqt aa gaya hai jab har insan ki soch ko ek sahi disha dene vale aap jaise chintak or lekhak ki jarurat hai.dua hai aap ke dikhae path par sab apne kadam badhaye
December 7, 2008 8:18 PM
Amit K. Sagar said...

Very nice one!
December 8, 2008 1:04 AM
डॉ .अनुराग said...

क्या कहूँ .सब कुछ आपने समेट दिया है .....गहरे अर्थ में ...
December 8, 2008 6:25 AM
Harkirat Haqeer said...

उठाये तो सही,
मेरे घरकी तरफ़
अपनी बद नज़र कोई,
इन हाथोंमे गर
खनकते कंगन सजे,
तो ये तलवारसेभी,
तारीख़ गवाह है,
हर वक़्त वाकिफ़ रहे !

कमाल कीशब्‍दावली
December 8, 2008 9:16 AM
Vijay Kumar Sappatti said...

kya baat hai , main har nazm do-teen padha , deshbhakti se paripoorna hai .

खता किसने की?
इलज़ाम किसपे लगे?
सज़ा किसको मिली?
गडे मुर्दोंको गडाही छोडो,
लोगों, थोडा तो आगे बढो !
छोडो, शिकवोंको पीछे छोडो,
लोगों , आगे बढो, आगे बढो !

aur in lines mein to jaise jaan daal diya ho aapne .

bahut badhai

vijay
http://poemsofvijay.blogspot.com/
December 9, 2008 1:14 AM
Prithvi Pariwar said...

aap jaisa har insaan ho jaaye to duniya ki kuchh alag hi tasweer hogi...
December 9, 2008 1:35 AM
ananya said...

आदरणीया'शमा' जी ,
आपका रचना संसार निश्चित रूप से अनुपम है।
मैंने आपकी अद्यतन रचनाएँ ' एक,दोऔर तीन 'पढ़ीं।
लगा कि मैं ज़िन्दगी की सच्चाई से साक्षात्कार कर रहा हूँ और आज के युग में सत्पथ पर चलने की प्रेरणा दुर्लभ है तिस पर अंतस की गहराई से उद्भूत भाव काव्य का रूप लें क्या कहना !बधाई !
आपकी रचनाएँ काव्य प्रेमियों के लिए चिरकाल तक प्रेरणादायी बनी रहेंगी ।
मैं आपको व आपके रचना संसार को नमन करता हूँ !
आपके द्वारा प्रेषित 'वाणी वंदना 'पर प्रोत्साहन स्वरुप टिपण्णी के रूप में
शुभकामनाएँ प्राप्त हुईं जिनके लिए बेटीकोटिशः धन्यवाद!
निश्चित ही वास्तविकता प्रेरणाएं हमारा संबल होंगी।
कृपया हमारी साईट देखकर हमें अनुगृहीत करती रहें।
December 9, 2008 9:19 AM
manu said...

लाजवाब ...ये शब्द और आन लाइन ..बहुत मुश्किल कम hai
December 9, 2008 5:14 PM
VisH said...

aapka aagaj or lalkar lajabab...hai...

Aapke sath .....


Jai Ho Magalmay ho...
December 9, 2008 9:47 PM
RAJ SINH said...

AAPKE MAN AUR USME BASE HINDUSTAN KO NAMAN !
HINDUSTAN KEE HAR LALKAR PAR HAM SAB SAATH HAIN.

HINDUSTAN SAATH HAI .
HINDUSTAN KEE KASAM !
December 11, 2008 1:29 AM
प्रकाश गोविन्द said...

अत्यन्त भावपूर्ण कविता !
मन को आंदोलित करती हैं पंक्तियाँ !

मेरी हार्दिक शुभकामनाएं !
December 11, 2008 6:03 AM
सुप्रतिम बनर्जी said...

ऐसी रचना पर आदमी दाद देने से ख़ुद को रोक नहीं सकता। जितनी अच्छी रचना, उससे भी अच्छी चर्चा बिंदु।
December 11, 2008 7:26 AM
अक्षय-मन said...

shabd nahi hain talwaar se kam.....
aaj ki jhasi ki rani....talwaar nahi hai to kya hua shabd to hain wo bhi bahut tej daar wale hain bure logo ke liye......
December 12, 2008 9:39 PM

2 comments:

हिमांशु पाण्डेय said...

संतानको सताओ तो सही,
चीरके रख दूँगी,

बहुत सुन्दर। एसी न जाने कितनी लाइने हैं जॊ दिल कॊ छूती है साथ ही मन कॊ कचॊटती भी है। आपकी रचना के लिए बधाइयां। बहुत अच्छा प्रयास

Pradeep Kumar said...

खता किसने की?
इलज़ाम किसपे लगे?
सज़ा किसको मिली?
गडे मुर्दोंको गडाही छोडो,
लोगों, थोडा तो आगे बढो !
छोडो, शिकवोंको पीछे छोडो,
लोगों , आगे बढो, आगे बढो !

kya baat hai ! saari samasyaaon ka yahi ek hal hai . kaash aisa hota !!!!!!!