Tuesday, April 14, 2009

अंधेरों की खैर हो....

'तनहा' उदास रात के लमहों की खैर हो
इक शम्म जल उठी है अंधेरों की खैर हो

बैठे हैं इंतज़ार में लौटेंगे वो कभी
बरसों की बात छोड़िये सदियों की खैर हो

होठों पे एक बात है होती नहीं बयाँ
सोचा है आज कह भी दें लफ़्ज़ों की खैर हो

उनको छुआ कि जिस्म को बिजली ने छू लिया
देखा है उनको बारहा आंखों की खैर हो

मौजों से आज हो गयी तूफाँ की दोस्ती
दरिया है बेलगाम किनारों की खैर हो

-- प्रमोद कुमार कुश 'तनहा'

Mai Pramodjee kee behad shukrguzaar hun, ki ,unhonne ye gazal mujhe apne blogpe copy, paste karnekee ijaazat dee....unkee behtareen rachnaonmese mujhe ye ek lagee thee...sheershak maine apneaap de diya hai...aashaa kartee hun, ki unhen aitaraaz nahee hoga...

10 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

मौजों से आज हो गयी तूफाँ की दोस्ती
दरिया है बेलगाम किनारों की खैर हो....
बेहद सुंदर प्रस्तुति .बधाई .

Shikha Deepak said...

होठों पे एक बात है होती नहीं बयाँ
सोचा है आज कह भी दें लफ़्ज़ों की खैर हो

खूबसूरत ......बहुत अच्छी लगी।

mark rai said...

मौजों से आज हो गयी तूफाँ की दोस्ती.....सुंदर प्रस्तुति .बधाई .
नर्म सबेरा कभी रूह में शामिल था । अब पास भी नही फटकता । कहीं दूर ... चला गया ।
आज भी सबेरा निकलता है । रूप बदल कर । जिसे हम गर्म सबेरा कहते है ।
हमारी प्रकृति में इतना बदलाव ! हजम नही होता ।

'sammu' said...

AAPKE KAVYA ME JO ANUBHUTI HAI VAHEE ACHCHEE SHAIREE PAKAD BHEE RAKHTEE HAI .AAPNE 'TANHA' KEE BAHUT UMDA RACHNA KO APNEE ' KAVITA ' ME MAN DIYA HAI . YE EK ACHCHEE PARAMPARA KA ANG HAI .
AAPKE GADYA KO PADH LAGTA HAI AAP EK UTTAM KAVYA PARKHEE HO SAKTEE HAIN . JO 'RAS' MILE USE BHEE BAYAN KAR DEN TO CHUNAV KO EK 'MANOGAT' MIL JAYEGA. AUR PATHKON KO EK PAHUNCH AUR PAHAL BHEE MILEGEE. AAPKE SPANDAN KO BHEE SUKOON.

MAINE JO PADHA ABTAK , USME 'TANHA' NE AAPKE BLOG PE SWAYAM BHEE IS RACHNA KO TIPPANEE ME DE AAPKE PRATI EK AADAR KEE ABHIVYAKTI KEE THEE KABHEE .

SOCHIYEGA KI BLOG JAGAT KE AUR BHEE LOGON KEE ACHCHEE KRITIYON KA AISE HEE AUR ISEE ANDAZE BAYANEE ME ULLEKH KAREN AAGE .

Pawan Kumar said...

बैठे हैं इंतज़ार में लौटेंगे वो कभी
बरसों की बात छोड़िये सदियों की खैर हो

bahut khub

Pawan Kumar said...

shamaa ji muje word verification ka option edit profile me nahi mila. aap dobara chek karke bataye.

Pradeep Kumar said...

मौजों से आज हो गयी तूफाँ की दोस्ती
दरिया है बेलगाम किनारों की खैर हो


wah ji wah kya baat

kya khoob hai ghazal kya khoob shair hai,
jab aap hon muqaabil ghazalgo ki khair ho.

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

बहुत ही सुन्दर रचना!
आप का ब्लाग बहुत अच्छा लगा।
मैं अपने तीनों ब्लाग पर हर रविवार को
ग़ज़ल,गीत डालता हूँ,जरूर देखें।मुझे पूरा यकीन
है कि आप को ये पसंद आयेंगे।

Nitish said...

bahut acchi sabadabali kaa prayog kiya hai....
likhna jaari rakhe

Nitish said...

aapki kavita bahut acchi hai...bahut hi acchi sabadabli ka prayog kiya gaya hai....
likhna jaari rakhe...