Tuesday, February 16, 2010

ये सज़ा क्यों दे गए ?

सर आँखों पे चढ़ाया जिन्हें हमने,
वो हमें निगाहों से गिरा गए,
सीता होनेका दावा न किया हमने,
वो ख़ुद को राम कह गए।
हम तो पहुँचे थे आँगन उनके,
प्यारभरी बदरी बनके,
तन मन सींचना चाहते थे,
बरसे तो,वो रेगिस्ताँ बन गए!
मंज़ूर थीं सारी सज़ाएँ ,
ख़ुद शामिले कारवाँ हो गए,
हमें एक उम्र तन्हाँ दे गए...

11 comments:

दिगम्बर नासवा said...

सीता होनेका दावा न किया हमने,
वो ख़ुद को राम कह गए ...

खुद ही कत्ल कर के मुनसिफ़ भी बन बैठे .... सीता होना आसान नही है ... पर राम भी तो राम नही हैं जब सीता नही .... बहुत अच्छा लिखा है ....

वन्दना said...

हम तो पहुँचे थे आँगन उनके,
प्यारभरी बदरी बनके,
तन मन सींचना चाहते थे,
बरसे तो,वो रेगिस्ताँ बन गए!

gazab ke bhav bhar diye hain.......yun to poori kavita hi lajawaab hai.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

शमा साहिबा, आदाब
बहुत अच्छी रचना है.....
ये पंक्ति खास असर छोड़ती है-
.......सर आँखों पे चढ़ाया जिन्हें हमने...वो हमें निगाहों से गिरा गए,
.....प्यारभरी बदरी बनके......तन मन सींचना चाहते थे,
बरसे तो, वो रेगिस्ताँ बन गए!
...............मंज़ूर थीं सारी सज़ाएँ....ख़ुद शामिले कारवाँ हो गए...हमें एक उम्र तन्हाँ दे गए...
वाह.....बहुत खूब
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

रोहित said...

n jaane aisa kyun hota hai?jise hum apna samajhte hain,jinke liye apna sarvaswa aahut karne ko udhat rehte hain,
wahi tokhar laga jata hai...
bahut acchi lagi aapki yeh rachna!

योगेश स्वप्न said...

हम तो पहुँचे थे आँगन उनके,
प्यारभरी बदरी बनके,
तन मन सींचना चाहते थे,
बरसे तो,वो रेगिस्ताँ बन गए!

bahut bha gain ye panktian.

sangeeta swarup said...

बहुत मार्मिक रचना...चंद पंक्तियों में जिंदगी भर की दास्ताँ कह दी..

ktheLeo said...

सुन्दर भाव लिये हुये है आपकी ये रचना!

सर्वेश दुबे said...

अति सुन्दर ,आखिर आप ने वो लिख दिया जो मेरे ही नही किसी के वाह वाह करा सकता है

संजय भास्कर said...

तन मन सींचना चाहते थे,
बरसे तो,वो रेगिस्ताँ बन गए!

gazab ke bhav bhar diye hain.......yun to poori kavita hi lajawaab hai.

वाणी गीत said...

तन मन सींचना चाहते थे ...वे बरसे तो रेगिस्तान हो गए ...
बहुत भावपूर्ण ...!!

ज्योति सिंह said...

सीता होनेका दावा न किया हमने,
वो ख़ुद को राम कह गए ...zabardast bhav hai man ke ,umda
kuchh shabd is rachna par apni taraf se kahoongi ----
अंधे आदर्शो को कंधो पर बिठलाकर
मैं उनका बोझ और नही ढो सकता हूँ .
तुम इस युग की 'सीता' बनने की जिद्द न करो
मैं रामायण का 'राम' नही हो सकता हूँ